advertisement

DUNK| दिन-सार एकसार|मन में ” मां गौरजा व हृदय में नागराजा” | पढ़िये पूरी खबर

Share this news

सिटी लाइव टुडे, मीडिया हाउस


दिव्य, भव्य, अद्भुत व अलौकिक। चारों ओर बिखरी हुयी सिंदूरी आभा के बीच हर कोई भक्ति भाव में डूबा हुआ है। मन-मंदिर मेें प्रज्ज्वलित अखंड जोत अंधेरे के सीने को छलनी कर रही है। कुछ ऐसी ही तस्वीर नजर आ रही है इन दिनों डुुंक गांव की। यहां धर्म-अध्यात्म का रंग बेहद गाढ़ा हो रखा है। रैबासियों व प्रसासियों के बीच मिलन का गवाह बने इस गांव के हर किसी के चेहरे पर खुशी के कई भाव एक साथ तैर रहे हैं और हो रही है धर्म-अध्यात्म की जय-जयकार।

जनपद पौड़ी के कल्जीखाल ब्लाक की असवालस्यूं पट्टी के डुंक गांव का जिक्र हो रहा है। इन दिनों इस गांव में धार्मिक अनुष्ठान चल रहा है। गांव की ईष्ट देवी मां गौरजा व ईष्ट देव नागराजा के निमित चल रहे इस अनुष्ठान में बड़ी संख्या में प्रवासी भाग रहे रहे हैं।
कहा जाये इन दिनों इस गांव में दिन-रात एकसार हो रखे हैं। अनुष्ठान के साक्षी बनने को बड़ी संख्या में प्रवासी गांव पहुंचे हैं। ध्वजा मंदिर प्रांगण में प्रतिष्ठित हो चुकी है। वैदिक मंत्रोच्चारण व विधि-विधान के साथ ध्वजा को मंदिर परिसर में प्रतिष्ठित किया गया।
जागरण का आयोजन तो बेहद ही खास रहा। जीतू मियां राठौर व साथी कलाकारों नेे एक से बढ़कर एक दिव्य प्रस्तुति देकर ग्रामीणों को भक्ति रस से तर-बतर कर दिया।

architect-ad

ad12


भजनों की उम्दा प्रस्तुतियोें पर ग्रामीण तन-बदन बिसराकर जमकर नाचते रहे। डुंक के ग्राम प्रधान श्रीमती राखी देवी ने अपने संबोधन में समस्त ग्रामीणों का आभार जताया। उन्होेंने कहा कि ये आयोजन हमारे अंदर आध्यात्मिक शक्तियों को जागृत करते हैं। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आयोजन हर साल किये जायेंगे। ग्राम प्रधान ने कहा कि सामाजिक समरसता बनाने में भी ऐसे आयोजन महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। आयोजन समिति के अध्यक्ष कुलदीप सिंह रौथाण ने कहा कि डुंक गांव के लोग धर्म प्रेमी के साथ ही कला प्रेमी भी हैं। उन्होंने कहा कि इस आयोजन में धर्म व कला दोनों का अद्भुत संगम हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.