tanejav1

भादौ माह में ‘विश्व घसन पक्ष‘‘ | महाभारत में बना था ऐसा योग |प्रस्तुति-पंडित पंकज पैन्यूली

adhirajv2

Share this news

सिटी लाइव टुडे, धर्म-अध्यात्मक डेस्क-आचार्य पंकज पैन्यूली(ज्योतिष एवं आध्यात्मिक गुरु)संस्थापक भारतीय प्राच्य विद्या पुनुरुत्थान संस्थान ढालवाला। कार्यालय-लालजी शॉपिंग कॉम्प्लेक्स मुनीरका, नई दिल्ली। शाखा कार्यालय-बहुगुणा मार्ग पैन्यूली भवन ढालवाला ऋषिकेश।सम्पर्क सूत्र-9818374801,8595893001


भादौ माह के बारे में आपकी जो भी राय हो लेकिन इस बार का भादौ माह ठीक नहीं कहा जा सकता है। ज्योतिष शास्त्र की गणना तो कुछ ऐसा ही कुछ कह रही है। इस बार भादौ माह में विश्व घसन पक्ष का योग बन रहा है जिसे शुभ नहीं कहा जा सकता है। ज्योतिश शास़्त्र के जानकार पंडित पंकज पैन्यूली ने इस पर विस्तार से जानकारी साझा की है तो आइये, जानते हैं कि इस बार का भादौ माह क्यों शुभ नहीं है।

advertisment

ज्योतिष गणित सिद्धान्त में तिथि, वार, नक्षत्र, योग और ग्रहों की सूक्ष्म गणना को विशेष महत्व दिया जाता है। इस बार तिथि की सूक्ष्म गणना के आधार पर भाद्रपद मास शुक्ल पक्ष (08 सितंबर से 20 सितंबर ,2021) में 13 दिन का पक्ष घटित हो रहा है। ज्ञात हो कि भारतीय पंचांग की गणना अनुसार प्रति महीने शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष के 14,15 या 16 दिन तक घटित होते हैं। जो कि एक सामान्य गणित प्रक्रिया का हिस्सा है। लेकिन जब कभी किसी पक्ष में दो बार तिथि का क्षय होता है, तो वह पक्ष 13 दिन तक सिमट जाता है।

ads

आचार्य पंकज पैन्यूली(ज्योतिष एवं आध्यात्मिक गुरु)संस्थापक भारतीय प्राच्य विद्या पुनुरुत्थान संस्थान ढालवाला। कार्यालय-लालजी शॉपिंग कॉम्प्लेक्स मुनीरका, नई दिल्ली। शाखा कार्यालय-बहुगुणा मार्ग पैन्यूली भवन ढालवाला ऋषिकेश।सम्पर्क सूत्र-9818374801,8595893001

…. इस तेरह दिन के पक्ष को ‘‘विश्व घसन पक्ष‘‘ कहते हैं।जिसे ज्योतिषीय दृष्टिकोण से अशुभ माना जाता है। ‘‘विश्व घसन पक्ष‘‘के मुख्य दुष्प्रभाव इस प्रकार हैं। 1समाज में व्यापक रूप से अशान्ति का वातावरण। 2.राजनैतिक पार्टियों में बिखराव। 3.राजनैतिक दलों में असामान्य टकराव । 4.राजकीय संपत्ति को नुकसान। 5.विश्व स्तर पर हिंसा और युद्ध का वातावरण। 6.किसी राज्य या देश में समय पूर्व सत्ता परिवर्तन। 7.प्राकृतिक आपदाओं का अधिक होना।। 8.आवश्यक वस्तुओं के मूल्यों में वृद्धि।। 9.देश -विदेश में किसी प्रमुख व्यक्ति का निधन आदि-आदि दुष्प्रभाव ‘‘ विश्व घसन पक्ष‘ के कारण सम्भावित हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *