advertisement

कोविड़ गाइड लाइन के साथ होगी भगवान विश्वकर्मा की पूजा | विकास झा की रिपोर्ट

Share this news

CITYLIVE TODAY. VIKASH JHA

विश्कर्मा पूजा आयोजन को लेकर विश्वकर्मा मंदिर प्रबंधक ट्रस्ट के अधिकारियों ने बैठक बुलाकर विचार विमर्श किया। बैठक के दौरान उन्होंने लोगों से भारत सरकार की कोरोना गाइडलाइन का पालन करने का भी निवेदन किया। 17 सितंबर को भगवान विश्वकर्मा का जन्मदिन मनाया जाता है। लेकिन कोरोना गाइडलाइन लागू होने के चलते सभी धार्मिक आयोजनों पर रोक लगी हुई है।

इसके चलते विश्वकर्मा मंदिर प्रबंधक ट्रस्ट की बैठक का आयोजन ज्वालापुर, सुभाष नगर स्थित विश्वकर्मा मंदिर में बुलाई गई। बैठक की अध्यक्षता ट्रस्ट के अध्यक्ष अशोक धीमान ने की। उन्होंने कहां कि बैठक में विचार विमर्श करने के उपरांत तय किया गया कि 17 सितंबर भगवान विश्वकर्मा की जयंती भारत सरकार के निर्देशानुसार कोविड के नियमों का पालन करते हुए मनाई जायेगी। जिसमें विश्वकर्मा जयंती आयोजन के लिए सभी पदाधिकारियों व सदस्यों को जिम्मेदारी सौंप दी गयी है।

architect-ad

अशोक धीमान ने कहा 17 सितंबर, दिन शुक्रवार को प्रात काल विधि विधान से शिल्पी शिल्पी के जनक भगवान विश्वकर्मा की पूजा की जाएगी इसके उपरांत आने वाले श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरित किया जाएगा। पूजन के उपरांत प्रसाद का भी वितरण किया जाएगा। अशोक धीमान ने कहा कि महामारी के दौर में लोगों के स्वास्थ्य का भी ख्याल रखना आवश्यक है। लेकिन इसके साथ धार्मिक मान्यताओं का संरक्षण भी जरूरी हो जाता है। ऐसे मैं पूजा में शामिल होने वाले लोगों से 2 गज की दूरी के साथ मास्क एवं सैनिटाइज का प्रयोग करने की भी अपील की गई है। उन्होंने कहा सावधानी ही बचाव का सर्वोत्तम उपाय है।

ad12

इसलिए लोगों को पूरी सावधानी के साथ पूजा में शामिल होने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने संस्था के पदाधिकारियों एवं सदस्यों से अपील करते हुए कहा कि वह सभी ट्रस्ट के सभी पदाधिकारी व सदस्य को आमजन के साथ स्वयं कोविड नियमों का पालन सुनिश्चित करते हुए दूसरों को भी प्रेरित करने की लिए निर्देश दिया है। बैठक में दयाराम धीमान, मुनेश्वर धीमान, मोनू धीमान, नागेंद्र धीमान, प्रमोद धीमान, सचिन धीमान, समर धीमान, सोनू धीमान, दयानंद धीमान, प्रदीप भारद्वाज, पंडित दुबे, अरुण धीमान, राहुल, काकास मन्नू आदि लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.