tanejav1

ढांगा रे ढांगा रे | रैबासी-प्रवासी मिलजुल कर रहे मिलीजुली खेती | द्वारीखाल से जयमल चंद्रा की रिपोर्ट

adhirajv2

Share this news

गढ़वाल में इन दिनों तैयारी होती है मिश्रित खेती की
मिश्रित खेती की तैयारी में जुटे हैं रैबासी व प्रवासी
सिटी लाइव टुडे, द्वारीखाल-प्रस्तुति-जयमल चंद्रा

ढांगा रे ढांगा रे, ना जा तैंल्या फांगा,,,,,,,जी हां, इन दिनों गढ़वाल में रैवासी व प्रवासी यही गीत गुनगुना रहे हैं वो भी खेतों में हल लगाते हुये। नजारा सच में ऐसा कि मन भावन सावन हो जाये। गढ़वाल में इन दिनों मिश्रित खेती का नजारा देखने को मिल रहा है। गढ़वाल में मिश्रित खेती पारंपरिक पद्धति है। पहले आपको मिश्रित खेती के बारे में ही बता देेते हैं। नाम के अनुरूप मिश्रित खेती यानि मिलीजुली खेती। साधारण शब्दों में कहें तो जब एक ही जोत या खेत में तीन-चार प्रकार के अनाज की खेती की जाती है तो इसे मिश्रित खेती कहा जाता है।

इन दिनों गढ़वाल में कई जगहों पर मिश्रित खेती ही की जा रही है। दरअसल, करीब एक-डेढ़ महीने पहले कोदा बौया गया है और अब खेतों में कोदा उग भी चुका है। जैविक खेती प्रशिक्षक जयमल चंद्रा बताते हैं कि इन वक्त कोदे की उगी फसल में ही गैथ व उड़द भी बोये जाते हैं। इसके लिये इन खेतों में हल लगाया जाता है। इससे खेतों का खर-पतवार भी समाप्त हो जाता है।

advertisment

जैविक खेती प्रशिक्षक जयमल चंद्रा बताते हैं कि अब करीब एक माह बाद कोदा की फसल पककर तैयार हो जायेगी तो कोदा निकाल लिया जायेगा और टलनियां खेतों में खड़ी रहेगी। इसके बाद इन्हीं टलनियों के सहारे गैथ व उडद की फसल होगी। कोदे की इन टलहियों में गैथ व उडद की बेल लिपटी रहती है और इस प्रकार से गैथ व उडद की फसल पककर तैयार होती है।

ads

द्वारीखाल ब्लाक के बमोली गांव में इन दिनों मिश्रित खेती की तैयारी चल रही है और खेतों में हल लगाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *