advertisement

बुढ़ापे को सहारे की लाठी और गरीब बेटियां के लिये विवाह मंडप|जगमोहन डांगी की रिपोर्ट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, जगमोहन डांगी, सतपुली


नयारघाटी सतपुली की माटी में मजबूती से खड़े इस समाज के रखवाले के समाज सेवा के कार्यों की लिस्ट में एक और काम व नाम जुड़ने जा रहा है। समाज के रखवाले समाजसेवी ठाकुर सुंदर सिंह चौहान की पुण्य की पाठशाला यानि वृद्धाश्रम में अब तक बुढ़ापे को सहारे की लाठी ही मिल पाती थीे लेकिन अब इस पुण्य की पाठशाला में गरीब बेटियों का विवाह भी होंगे। इस पुनीत कार्य को धरातल पर उतारने के लिये चौहान साहब ने 50 सदस्यों की समिति भी गठित की है। आने वाले कुछ ही दिनों में इस पुण्यशाला में एक गरीब बेटी सात पफेरे लेने जा रही है। इसकी सारी तैयारियों को फाइनल टच दिया जा रहा है।

जनपद पौड़ी की हृदय स्थली कह जाने वाले नयारघाटी क्षेत्र सतपुली अपनी कई प्रकार की विशेषताओं के लिये जाना व पहचाना जाता है। इस पहचान को नया लुक व नया रंग दिया है समाज के रखवाले ठाकुर सिंह चौहान ने। तमाम प्रकार के सामाजिक कार्यों में ठाकुर साहब दिल खोलकर सहयोग करते भी करते हैं और इसे कार्यों को प्रोत्साहित भी करते आ रहे हैं।

architect-ad

इसकी बानगी सतपुली के नजदीक मलेठी गांव में स्थित वृद्धाश्रम है। कई ऐसे भी हैं जिनको बुढ़ापे में सहारे की लाठी नहीं मिल पाती है। आज के दौर में ऐसा पहले की अपेक्षा कुछ ज्यादा हो भी रहा है। ऐसे में चौहान की यह पुण्य की पाठशाला यानि वृ़द्धाश्रम बुढ़ापे की मजबूत सहारे की लाठी बन रही है। ठाकुर सुंदर सिंह चौहान ने एक भव्य वृद्धाश्रम का निर्माण करवाया ताकि क्षेत्र के असहाय, गरीब एवं जरूतमंद वृद्ध लोगांे के अलावा सम्पन बुजुर्गाे के लिए जिनका देखभाल करने वाला कोई नहीं उनके लिए भी वृद्धाश्रम में रहने की व्यवस्था बनाई है। साथ ही ठाकुर सुंदर सिंह चौहान वृद्ध आश्रम में ठाकुर साहब ने एक और पुण्य कार्य का बीड़ा उठाया है।

उन्होंने आश्रम में गरीब एवं जरूरमंद गरीब कन्याओं की शादी करने का भी निर्णय लिया। जिसके लिए बाकायदा नायर घाटी के आस पास के 50 से प्रबुद्ध समाजसेवियो की एक बंधुवर सेवा सीमित गठित कर समिति को शादी करवाने के लिए हिंदू रीति- रिवाज से गरीब कन्यायों की शादी में सामूहिक तौर पर संपन करने में सहयोग करेगी।

ad12

बड़े इंतजार के बाद वर्तमान में समिति के पास 27 सितंबर को नवरात्र पर पट्टी कोलागाड़ तहसील चौबटाखाल से गजेंद्र सिंह नेगी ने अपनी पुत्री का विवाह वृद्ध आश्रम में करवाने के लिए आवेदन किया था जिसके चलते आज रविवार को शादी की तैयारी को लेकर बंधुवर सेवा समिति के अध्यक्ष पूर्व प्रधान माया देवी की अध्यक्षता में बंधुवर समिति की शादी को लेकर में पूरी तैयारी कर ली गई। समिति गठित होने के बाद यह वृद्ध आश्रम में पहली किसी गरीब कन्या की शादी आयोजित होगी। जिसके को लेकर समिति के सदस्यों को कार्य सौंप दिए हैं। बैठक में ठाकुर सुंदर सिंह चौहान, आश्रम की अंचलिका सोनिया बिष्ट सहित सभी पदाधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.