advertisement

haridwar| तो फर्जी रूप से रहा संयोजक मंडल !| जानिये क्या है मामला, पढ़िये पूरी खबर

Share this news

CITYLIVE TODAY. MEDIA HOUSE

फर्जी रूप से चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरिद्वार कार्यालय के नाम से संयोजक मंडल संचालित हो रहा है। इस संयोजक मंडल को दीपक धवन और मुकांशी रघुवंशी चला रहे हैं। इस मामले में त्वरित कार्रवाई की जाये। यह बात खत में लिखी है और यह खत चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएँ उत्तराखंड ने मुख्य चिकित्साधिकारी हरिद्वार को सौंपा है।


सीएमओ हरिद्वार को यह पत्र चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएँ उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश लखेडा जिला मंत्री राकेश भँवर ने सौंपा है। मीडिया को जारी विज्ञप्ति में चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएँ उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश लखेड़ा व जिला मंत्री राकेश भंवर ने बताया है कि कर्मचारियों की लंबी समय से चल रही मांगों को जिक्र भी खत में किया गया है।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ कुमार खगेंद द्वारा कर्मचारियों की मांगों के निस्तारण का शीघ्र आश्वासन दिया गया कर्मियों के आवासों की रंगाई पुताई मरम्मत,69 आवासों की बड़ी सीवर लाइन डालने के लिए प्रस्ताव शीघ्र ही जिलाधिकारी महोदय के यहां जायेगा,कर्मचारियों की वेतन विसंगति के लिए सभी चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की सेवा पुस्तिका का निरीक्षण करने के लिए बिष्ट को आदेशित किया गया, कर्मचारियों के आवासों और सीवर लाइन के लिए अनिल चमोली को निर्देशित किया गया, कर्मचारियों के लंबित चिकित्सा प्रतिपूर्ति के लिए तत्काल बजट आवंटन हेतु महानिदेशालय भेजा जाएगा। कर्मचारियों के आवास प्राथमिकता के आधार पर राजकीय चतुर्थ श्रेणी कर्मियों को आवंटित किए जाएं,कर्मचारियों के जी पी एफ के अग्रिम का भुगतान शीघ्र किया जाए जिसको शीघ्र ही कराया जायेगा।

architect-ad

ad12


प्रदेश अध्यक्ष दिनेश लखेडा जिला मंत्री राकेश भँवर ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरिद्वार से जो कर्मचारी फर्जी रूप से संगठन चला कर कर्मचारियों को भृमित कर रहे हैं मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय का नाम का भी दुरूपयोग कर रहे हैं जिनके पास कोई रजिस्टर्ड मान्यता नही है चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ द्वारा कोई मान्यता नहीं दी गई है ऐसे अवैध संयोजक दीपक धवन और मुकांशी रघुवंसी के खिलाफ कार्यवाही की जाये और संगठन की छवि धूमिल करने और नाम का दुरुपयोग करने के लिए संघ इनके विरुद्ध वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय को पत्र लिखकर इनके विरुद्ध कार्यवाही का अनुरोध करेगा अगर जरूरत पड़ी तो संघ माननीय न्यायालय जाने से भी परहेज नहीं करेगा जिस पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा कार्यवाही का आश्वासन दिया गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.