advertisement

assembly election| यहां “चिंटू-मिंटू ” आये ” गौं-गुठ्यार “| प्रत्याशी नहीं| जगमोहन डांगी की रिपोर्ट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, जगमोहन डांगी, पौड़ी


assembly election मैदान मारने को पैनी हुयी सियासी धार मीठे बोल बोल रही है। नेतानगरी सीधे गौं-गुठ्यार पहुंची है गौं-गुठ्यार में रौनक लौटी है। लेकिन इसके बीच पौड़ी जनपद के कुछ गांव ऐेसे भी हैं जहां कोई भी प्रत्याशी वोट मांगने नहीं गया। हालांकि, प्रत्याशियों के चिंटू-मिंटू इन गावों के गुठ्यार जरूर आये हैं और नेताजी के लिये वोट देने की फरियाद की।


जनपद पौड़ी के कल्जीखाल ब्लाक की मनियारस्यूं पट्टी के डांगी, सुरालगांव, तकलना और ठंगरधार गांवों में प्रत्याशियों के चिंटू-मिंटू ने प्रचार की कमान संभाली। ग्रामीणों का कहना है कि किसी भी दल का प्रत्याशी इन गांवों में नहीं आया। हालांकि, प्रत्याशियों के चिंटू-मिंटू आये हैं और नेता जी के लिये वोट मांगे।

architect-ad

ad12


व्यथा की कथा यह है कि डांगी को छोड़कर उक्त गांवों तक सड़क नहीं पहुंची है। डांगी गांव तक भी जो सड़क बनी है वह भी काम चलाउ ही है। ऐसे में ग्रामीण लंबे समय से सड़क बनाने की मांग करते आ रहे हैं। ग्रमीणों के गुस्से के बाद सड़क स्वीकृत भी हुयी लेकिन शिलान्यास से आगे काम नहीं हो पाया है।
जाने-माने इतिहासकार डॉक्टर रणवीर सिंह चैाहान डांगी गांव के ही हैं। लंबे समय से वे कोटद्वार रहते हैं। उनका कहना है कि जीवन के अंतिम पड़ाव में गांव आना चाहते हैं। लेकिन सड़क चलने लायक नहीं है। इसी क्षेत्र के डॉक्टर वैध जयचंद सिंह ंचैाहान दिल्ली मंगोलपुरी में दवाखाना चलाते हैं। वे भी बुढ़ापे में गांव आने चाहते हैं। लेकिन पैदल नहीं चल सकते हैं। आखिर इन गावों की व्यथा कब दूर होगी। इन गांवों तक कब सड़क पहुंचेगी। यह सवाल ग्रामीण पूछ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.