advertisement

क्यों बोले “बुटली” के लोग कि कभी इसने तो कभी उसने ठगा| जगमोहन डांगी की रिपोर्ट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, जगमोहन डांगी, कल्जीखाल


चुनावी मौसम मंे अपने नेताजी विकास की बातें कर रहे हों लेकिन हकीकत किसी से छिपी हुयी नहीं है। जनता को केवल कोरे भाषण व आश्वासन ही मिलते रहे हैं। ऐेसे में गुस्सा तो आयेगा ही। सिटी लाइव टुडे के संवाददाता जगमोहन डांगी ने विकास के दावों की पड़ताल की तो ग्रामीण बोले इसने भी ठगा तो उसने भी ठगा। पौड़ी जनपद के बुटली गांव के ग्रामीणों के मन की बात को टटोली गयी तो ग्रामीणों ने भाजपा व कांग्रेस दोनों दलों को खूब कोसा। बस इन नेतााओं का नाम भी मत लीजिये। संवाददाता जगमोहन डांगी की यह खास रिपोर्ट।

architect-ad

पौड़ी विधानसभा की पट्टी मनियारस्यू के ग्राम बुटली की जो खेती के लिए जाना जाता है। यह अधिकतर पलायन मूलभूत समस्या पानी के लिए हुआ गांव के ऊपर नजदीक 30 करोड़ की चिंवाडी डांडा पम्पिंग योजना भी ग्रामीणों की प्यास नहीं बुझा सकी गांव में प्राकृतिक जल स्रोत से पानी की प्यास बुझाई जाती है। लेकिन गांव से दो मील नीचे खड़ी चढ़ाई पर स्रोत है। जिस कारण बड़े बुजुर्ग लोग गांव से पलायन कर देते हंै और गांव की बजाय देहरादून दिल्ली शहरों में रहने को मजबूर हो गए। युवा ग्रामीण गौतम रावत लॉकडाउन में गांव आए थे तब से गांव ही है। परमानंद बकरी पालक है।

ad12

वही गांव के भेड़ पालक विक्रम सिंह का कहना है कि मैं तो बकरी और भेड़ पालकर अपना परिवार का भरण पोषण करता हूं। कोई भी सरकार आये, करना किसी के कुछ नहीं है। अब तक भी किसी ने कुछ नहीं किया। आशीष गुसाई बताते हैं कि युवाओं के लिए गांव में कोई रोजगार नहीं है। मनरेगा के अलावा वह मात्र 100 दिन का। कहने का सार यह है कि बुटली के ग्रामीण स्वयं को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.