दुगड्डा| पुल नहीं बना तो मतदान नहीं| जयमल चंद्रा की रिपोर्ट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, जयमल चंद्रा, दुगड्डा


यमकेश्वर विधानसभा क्षेत्र के दुगड्डा ब्लॉक के जुवां भैड़गॉंव बंगला के ग्रामीण पुल निर्माण की मांग को लेकर आंदोलनरत हैं। यहां के ग्रामीण पिछले 24 दिनों से अनिश्चित धरने पर बैठे हैं। चेतावनी दी गयी है कि यदि पुल का निर्माण नहीं हुआ मतदान नहीं करेंगे।


युवा समिति से जुड़े एवं जुंवा गॉव के उप प्रधान जितेन्द्र बिष्ट ने बताया कि पिछले मार्च 2021 में भी 13 दिन के लिए जुंवा भैड़ बगंला युवा समिति के द्वारा धरना प्रदर्शन किया था। यमकेश्वर विधायक ने समिति एवं ग्रामीणों को इसका मौखिक आश्वासन दिया था, लेकिन आठ माह से अधिक समय बीत गया अभी तक उक्त पुल के संबंध में कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

advertisment

वहीं समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि दुगड्डा से ढाई किलोमीटर दूर हनुमंती से आगे लगे गॉव जुवां, भैड़गॉव, बंगला और बोर गॉव को इसका लाभ मिलना है। इस पुल से लगभग डेढ हजार लोगों को बरसात में नदी पार करने की समस्या समाप्त हो जायेगी। उन्होंने बताया कि लंगूर गाड़ पर उक्त पुल बनने से ग्रामीणों की काफी समस्यायें दूर हो जायेगी।

साथ ही उन्होनें कहा कि यदि उक्त पुल का निर्माण नहीं होता है तो 2022 के विधानसभा चुनाव में मतदान नहीं किया जायेगा। अतः पुल नही तो वोट नही के नारे को लेकर चलने वाले ग्रामीणों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि यदि इस बार ग्रामीणों की मॉग नहीं मानी गयी तो इस बार चारों गावों के ग्रामीणों द्वारा मतदान नही किया जायेगा। वहीं ग्रामीणों ने कहा कि पिछले 27 दिनों से अनिश्चित धरना पर बैठे होने के बाद भी शासन प्रशासन व विभागीय कर्मचारियों द्वारा कोई सुध नहीं ली जा रही है। साथ ही रात्रिकाल में धरने पर बैठे ग्रामीणों को जंगली जानवरों का भय अलग रहता है, यदि धरने पर बैठे ग्रामीणों के साथ कोई अनहोनी होती है तो उसकी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी। बता दें कि पिछले कुछ दिन पहले ही जुवां गॉव की एक वृ़द्ध महिला को गुलदार ने अपना निवाला बना दिया था।

ads

धरने पर बैठे ग्रामीणो में मनोज कण्डवाल युवा समिति के अध्यक्ष, जितेन्द्र सिंह अजय बिष्ट, दिनेश चन्द्र, आशा देवी, इन्द्र देवी, लक्ष्मी देवी, सरोजिनी देवी, लक्ष्मी देवी, सुलोचना देवी, मुन्नी देवी, भागा देवी, सावित्रि देवी, अनिल बिष्ट,मोहित सिंह, राजेन्द्र सिंह चैधरी, मातवर सिंह, अशोक सिंह, हेमन्त सिंह, धर्मपाल सिंह आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *