tanejav1

रोडवेज की लचर सेवा से रोडवेज का सफर हुआ मुश्किल-डॉ नेगी|़ऋषिकेश से सत्येंद्र चैाहान की रिपोर्ट

adhirajv2

Share this news

CITYLIVE TODAY. MEDIA HOUSE -STENDRA CHAUHAN

ऋषिकेश- एक तरफ यात्री बसों के लिए परेशान हैं तो दूसरी ओर दर्जनों बसे गैराज में मरम्मत व सर्विसिंग की राह निहार रही हैं। मामला यहीं तक ही सीमित नही है कुछ बसों को रोड़वेज की इनकम बढाने के चक्कर में देहरादून के एक निजी कालेज में लगा दिया गया है। इस हाल में है अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त धार्मिक एवं पर्यटन नगरी ऋषिकेश का रोड़वेज डिपो। कोरोनाकाल के शुरू होने के बाद से ऋषिकेश डिपो में बसो और कर्मचारियों का टोटा लगातार बना हुआ है। इसकी वजह से कई रूटों की सर्विस बुरी तरह प्रभावित हो रही है।खासतौर पर ऋषिकेश से सटे ग्रामीण क्षेत्रों के लोग रोड़वेज की लचर सर्विस से बेहद परेशान हैं।

advertisment

ads

इस गंभीर मामले पर आम आदमी पार्टी ने आवाज बुलंद की है।पार्टी के ऋषिकेश विधानसभा प्रभारी डॉ राजे सिंह नेगी ने हरिद्वार रोड़ स्थित पार्टी कार्यालय से जारी बयान में कहा कि ऋषिकेश में जिम्मेदारों की उदासीनता से रोडवेज का सफर बेहद मुश्किल भरा होता जा रहा है। इन दिनों सुविधाओं को लेकर जहां रोडवेज बसों के लिए यात्री बस स्टैंड पर परेशान देखे जा सकते हैं। वहीं स्थिति यह है कि हर रोज परिवहन निगम की दर्जनों बसें कार्यशाला में खड़ी देखी जा रही हैं। संसाधन उपलब्ध होने के बावजूद भी जिम्मेदारों की मनमानी और लापरवाही के कारण यात्रियों को परेशान होना पड़ रहा है। कुछ बसों को देहरादून के निजी कालेजों में लगाया गया है जिसकी वजह से नेपाली फार्म से देहरादून रोजाना आवागमन करने वालों को खासी दिक्कतों का सामना करना पढ़ रहा है।उन्होंने कहा कि रोड़वेज की गलत नीतियों की वजह से सुविधाओं और आय के मामले में ऋषिकेश डिपो विपरीत हालातों के दौर से गुजर रहा है। देहरादून सहित दिल्ली मार्ग पर भी बसों की किल्लत देखने को मिल रही है। आप के विधानसभा प्रभारी डॉ नेगी के अनुसार जल्द ही व्यवस्था मे सुधार न हुआ तो मजबूरन आम आदमी पार्टी को आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा।इस अवसर पर जिला संगठन मंत्री दिनेश असवाल, प्रभात झा, दिनेश कुलियाल, हिमांशु नेगी,अश्वनी सिंह,पंकज गुसाईं, अजय रावत,मनमोहन नेगी,चंद्रमोहन भट्ट उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *