advertisement

श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ मां चमुंडा का मंदिर खोल देना चाहिये | महंत शुभम गिरी | विजय कश्यप की रिपोर्ट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, विजय कश्यप

समाजवादी पार्टी के प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य महंत शुभम गिरी ने प्रेस रिलीज जारी करते हुए कहा की बिल्केश्वर मंदिर से 3 किलोमीटर की दूरी पर सुनार कोठी स्थित पहाड़ी पर मां चामुंडा जी का मंदिर श्रद्धालुओं के लिए पूजा अर्चन के लिए खोल देना चाहिए उन्होंने या कहा कि काफी समय से यह मंदिर बंद पड़ा है और राजा जी नेशनल पार्क के प्रशासन श्रद्धालुओं को मंदिर में जाने की अनुमति नहीं देता है क्योंकि प्रशासन ने कहा है आरक्षित वन क्षेत्र है इसमें प्रवेश करना की इजाजत नहीं है

architect-ad

महंत शुभम गिरी ने कहा इसको लेकर वे मां चामुंडा देवी मंदिर मुक्ति आंदोलन समिति के सदस्यों से मिलेंगे और साथ में मुख्यमंत्री राज्यपाल और वन मंत्री को ज्ञापन सौंपेंगे इसके लिए एक नियम बनाया जाए और चामुंडा मंदिर को खोला जाए क्योंकि चामुंडा मंदिर ऐतिहासिक मंदिर है बिजनौर के डाकू सुल्तान यहां पर पूजा अर्चना किया करता था चामुंडा मंदिर के लिए वन विभाग एक नियम बनाए और एक कमेटी गठित करें और इस मंदिर को अपने अधीन रखे और मंदिर के जाने के लिए जो भी श्रद्धालु दर्शन करें उसका शुल्क ₹20 शुल्क लिया जाए साथ में उन्हें दर्शन की अनुमति देनी चाहिए और शाम को 5:00 बजे मंदिर के कपाट बंद कर देनी चाहिए

चामुंडा मंदिर हरिद्वार के ऐतिहासिक प्रांत है और यह मंदिर काफी समय से बंद पड़ा है और कई बार नवरात्रों में श्रद्धालु यहां पर जाने की कोशिश करते हैं लेकिन वन विभाग के प्रशासन अधिकारी मंदिर में जाने की अनुमति नहीं देने हैं इसीलिए इस मंदिर को खोलने की उठी मांग महंत शुभम गिरी ने कहा कि मैं मंदिर को खोलने के लिए भरपूर प्रयास करूंगा और मंदिर को अवश्य खुलवा लूंगा

ad12

उन्होंने सभी धार्मिक संस्थाओं से अपील की कि मंदिर को खोलने के लिए सभी धार्मिक संगठन आगे आए और प्रशासन के ऊपर दबाव बनाकर और राज्य सरकार के ऊपर दबाव बनाकर मंदिर को खोला जाए और श्रद्धालुओं के लिए मंदिर में पूजा अर्चना की व्यवस्था की जाए और वन विभाग अपनी भूमि को सुरक्षित रखें लेकिन मंदिर को खोलने के लिए वन विभाग को अपनी ओर से मंदिर की व्यवस्था करनी चाहिए मां चामुंडा देवी मंदिर मुक्ति आंदोलन समिति के सदस्यों का वह भी समर्थन करेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.