advertisment

चुनावी आहट के चलते बढ़ने लगे जमीनों पर अवैध अतिक्रमण | मुकेश कुमार सूर्या की रिपोर्ट

Share this news

श्यामपुर, मुकेश कुमार सूर्या

धर्म नगरी मे लालढांग क्षेत्र के श्यामपुर गांव में पिछले कुछ समय से चारों तरफ ग्राम पंचायत की खाली पड़ी जमीनों पर अतिक्रमण और अवैध कब्जों की बाढ़ सी आई हुई है! परंतु फिर भी इस अतिक्रमण के खिलाफ ग्राम पंचायत के प्रधान, सदस्य और जनप्रतिनिधियों में से कोई भी आवाज उठाने को तैयार नहीं! इसका सबसे बड़ा कारण आने वाला पंचायत चुनाव माना जा रहा है और इसीलिए कोई भी राजनीतिक धुरंधर या जनप्रतिनिधि अपने वोट बैंक के चक्कर में इस पर बोलने को तैयार नहीं! ज्ञात हो कि इन दिनों फोरलेन मे तब्दील हो रहे राष्ट्रीय राजमार्ग 74 पर श्यामपुर पेट्रोल पंप के आस पास खाली पड़ी ग्राम पंचायत और वन विभाग की जमीन इन दिनों

advertisment4

अतिक्रमणकारियों के निशाने पर होने के बावजूद जिम्मेदार महकमे की ओर से कोई भी किसी भी प्रकार की कार्यवाही देखने को नहीं मिल रही है! उधर जिले में आने वाले पंचायत चुनाव और 2022 के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जिम्मेदार प्रतिनिधि भी दिन प्रतिदिन हो रहे अतिक्रमण को देखकर भी इसकी अनदेखी करते हुए अपने वोट बैंक को साधने की जुगत में लगे हुए हैं! जिस वजह से सरकारी और पंचायत की जमीनों पर अवैध कब्जा करने वालों की मौज हो गई है! हालत यह हो गई है कि श्यामपुर पेट्रोल पंप के आसपास और गांव के अंदर चारों दिशाओं में बड़ी तादाद में ग्राम पंचायत की जमीनों पर अवैध कब्जे कर लिए गए हैं! और यदि समय रहते संबंधित विभाग द्वारा इस अतिक्रमण के विरुद्ध उचित कार्यवाही नहीं की गई तो अतिक्रमणकारी आने वाले पंचायत चुनाव के दौरान स्थिति और परिस्थिति का लाभ उठाकर वहां पर पक्के निर्माण भी कर सकते हैं! और बाद में जिसे हटाना पंचायत व प्रशासन के लिए आसान नहीं रह जाएगा!

ad12

बताते चलें कि श्यामपुर क्षेत्र में पंचायत की भूमि पर अवैध कब्जों की प्रवृत्ति लगातार बढ़ रही है! उन पर समय रहते संबंधित विभाग द्वारा आवश्यक कार्यवाही ना किए जाना कई सवाल खड़े करता है! और इसी बीच वर्तमान में भी एनएच 74 पर श्यामपुर तिराहे के आसपास सड़क के किनारे और श्यामपुर को राष्ट्रीय राजमार्ग से जोड़ने वाली सड़क पर तथा उसके इर्द-गिर्द खाली पड़ी जमीनों को लोग खोके रखकर तथा कच्चे टेंट लगाकर कब्ज़ाने में लगे हुए हैं!

Leave a Reply

Your email address will not be published.