advertisment

जानिये| डीएम पौड़ी ने प्रधानों व सरपंचों से की क्या अपील| जगमोहन डांगी की रिपोर्ट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, जगमोहन डांगी, पौड़ी


जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ0 विजय कुमार जोगदण्डे ने वनों में आग की घटनाओं में अत्याधिक वृद्धि को देखतें हुए जनपद के समस्त प्रधानों/सरपंचों से अपील की है कि वनों में आग की घटनाओं की रोकथाम हेतु प्रभावी कदम उठायें। जिससे अमुल्य वन सम्पदा, पशु-पक्षियों व जंगली जानवरों को बचाया जा सके।


जिलाधिकारी डॉ0 जोगदण्डे ने प्रधानों/सरपंचों को पत्र लिखकर आग की घटनाओं की रोकथाम करने की अपील की है, उन्होंने कहा कि प्रायः ग्रामीण जगंलों मे इस कारण आग लगाते है कि आग लगने के बाद घास अच्छी उगती है जो धारणा बिल्कुल गलत है। उन्होंने बताया कि आग लगने से भूमि की उपरी परत जल जाती है जिससे भूमि की उपजाऊ क्षमता कम हो जाती है तथा मिट्टी की उपरी परत बरसात में बह कर नदी नालों में चली जाती है। इसके अतिरिक्त जंगलों/वनों में आग लगने से जंगली जानवर मानव बस्तियों की ओर पलायन करते हैं जिससे मानव व जानवरों में संधर्ष की घटनायें देखने को मिलती है।

advertisment4


जिलाधिकारी डॉ0 जोगदण्डे ने कहा कि प्रायः यह भी देखा गया है कि पिकनिक आदि के लिए युवा वर्ग नदी के किनारों/उंची धारों वाले इलाकों में खाना बनाते है परन्तु जलती लकड़ियों को बुझाना भूल जाते हैं जिस कारण भी आग की घटनाऐं घटित होती है। जिससे मूल्यवान वन सम्पदा क्षति, वन्य जीव हानि होने के साथ धूएं से प्रदूषण एवं अत्यधिक गर्मी उत्पन्न होती है जिससे मानव व पशुओं के स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है। जिलाधिकारी ने ऐसा करने वाले व्यक्तियों की आपदा कन्ट्रोल रूम नं0-01368-221840, अथवा पुलिस सहायता न0 112 पर शिकायत करने की सलाह दी है।

ad12


जिलाधिकारी ने कहा कि सभी को भावनात्मक रूप से समझना होगा कि आग लगने से लाखों अरबों की वन संपदा नष्ट होने के साथ पशु-पक्षियों/जानवरों के छोटे बच्चे, जलकर मर सकते है साथ ही वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो वनाग्नि से पारंपरिक जल स्रोत भी सूख रहे है तथा बरसात के मौसम में वर्षा कम हो रही है। जिलाधिकारी डॉ0 जोगदण्डे ने सभी से अपील करते हुए कहा कि अपने क्षेत्रान्तर्गत वनाग्नि की रोकथाम में अपना अमूल्य सहयोग प्रदान करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.