advertisment

ये पुस्तक बतायेगी कोविड से बचाव व उपचार के गुर| नेहा सक्सैना की रिपोर्ट

Share this news

CITY LIVE TODAY. MEDIA HOUSE

सूबे के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को एम्स,ऋषिकेश के सीएफएम विभाग के वरिष्ठ चिकित्सक डा. संतोष कुमार की कोरोना से बचाव- एक सजग पहल” नामक पुस्तक का विमोचन किया। बताया गया है कि हिंदी में लिखी गई इस पुस्तक में कोरोना से बचाव एवं उपचार संबंधी विस्तृत जानकारियां उपलब्ध कराई गई हैं। इस अवसर पर माननीय मुख्यमंत्री जी ने हिंदी में लिखी इस पुस्तक की काफी सराहना की और उत्तराखंड के सभी शिक्षण संस्थानों,सरकारी विद्यालयों एवं ग्राम पंचायतों में इस पुस्तक की उपलब्धता सुनिश्चित कराने का आश्वासन दिया, उन्होंने कहा कि यह पुस्तक कोविड महामारी के समय काफी उपयोगी साबित होगी।

एम्स के डीन एकेडमिक्स प्रोफेसर मनोज गुप्ता जी व कम्युनिटी एवं फेमिली मेडिसिन विभागाध्यक्ष प्रोफेसर वर्तिका सक्सेना जी ने कोविड से जुड़ी पुस्तक के सफल प्रकाशन के लिए अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की हैं। गौरतलब है कि कोरोना एक सजग पहल नामक एम्स चिकित्सक डा. संतोष कुमार की इस पुस्तक में कोरोना के बाद में होने वाली बीमारियों एवं उनसे बचाव के उपाय, कोविड टीकाकरण, म्यूकरमायकोसिस, कोविड-19 से बच्चों को कैसे बचाएं और कोरोना की तीसरी लहर की तैयारी आदि के बारे में बताया गया है। इस पुस्तक में लोगों में कोविड महामारी को लेकर जो भ्रांतियां और जो डर है, उसे दूर करने की कोशिश की गई है।

advertisment4

कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व काबीना मंत्री मोहन सिंह रावत गांववासी ने की। इस अवसर पर एम्स की नर्सिंग फैकल्टी डा. राखी मिश्रा, पुस्तकालयाध्यक्ष संदीप कुमार सिंह आदि मौजूद थे। इंसेट पुस्तक में क्या हैं कोविड के बाबत महत्वपूर्ण बातें पुस्तक के लेखक डा.संतोष कुमार ने बताया कि पुस्तक का मुख्य उद्देश्य समाज के प्रत्येक वर्ग को कोविड से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो तथा कठिन समय पर कोई भी व्यक्ति परेशान नहीं हो। पुस्तक में कोविड से बचाव एवं उसके इलाज को लेकर सरल एवं व्यवहारिक उपायों की विस्तृत जानकारी दी गई है।

कोविड पॉजिटिव होने पर आपको क्या करना चाहिए ? संक्रमित होने पर हमें कौन सी मेडिसिन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए तथा इसके लिए कौन से परीक्षण कराने चाहिए ,जिससे कि कठिन समय में व्यक्ति सूझबूझ के साथ काम ले सके और पेनिक से बच सके। पुस्तक में कोविड के बचाव एवं इलाज में योग एवं मेडिटेशन को वैज्ञानिक तथ्यों सहित प्रस्तुत किया गया है।

ad12


चूंकि महामारी ने युवाओं एवं बच्चों को बुरी तरह से प्रभावित किया है, जिससे कई लोग बढ़ते डिप्रेशन,तनाव तथा सुसाइड इस महामारी के दुष्प्रभाव से और भी चरम पर है जो और चिंता का विषय है। इसके मद्देनजर पुस्तक के एक भाग में केवल महामारी से उत्पन्न मानसिक समस्याओं का व्यवहारिक निराकरण एवं निदान के बारे में खासतौर पर फोकस किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.