advertisement

देवीखेत पर नजर-ए-इनायत कीजियेगा | हुजूर | द्वारीखाल से जयमल चंद्रा की रिपोर्ट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, जयमल चंद्रा, द्वारीखाल


देवभूमि उत्तराखंड को कुदरत ने खुले हाथों से नेमतें बख्शी हैं। यहां के रमणीक स्थल बरबस ही हर किसी को अपनी ओर खींच लेते हैं लेकिन अफसोस कि सराकरी व प्रशासनिक मशीनरी की नजर-ए-इनायत इन खूबसूरत स्थलों पर नहीं हो पायी है। देवीखेत भी भी एक ऐसा ही स्थल है जो पर्यटन विकास की बाट जोह रहा है।


जनपद पौड़ी के द्वारीखाल ब्लाक के अंतर्गत आता है देवीखेत। इस जगह को प्राकृतिक सौंदर्यता का खजाना भी कह सकते हैं। शांत क्षेत्र और पेड़-पौधों की छांव सच में मन को सुकून पहुंचा देती है।

architect-ad

ad12


हसीन वादियों में बसा देवीखेत एक खूबसूरत स्थान है। पहाड़ियों पर बसा मावगढ़ मंदिर का नजारा यह से देखते ही बनता है। देवीखे डबरालस्यू 1 के लगभग 15 गांवो का केंद्रीय स्थल है । ढोंरी, दिखेत, जुयालगाव, जुड़, पवेख, नोबाड़ी, तिमली,डावर आदि दर्जन से ऊपर के गांव का मुख्य बाजार है। शिक्षा का केंद्र बिंदु है। सभी आस पास के गांव का। प्रथमिक विद्यालय अटल उत्कृष्ट इंटर कॉलेज शिक्षा के केन्द्र है। हिवल नदी से 2000 मीटर ऊपर है यह रमणीक स्थल। यहां पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। हमारे संवाददाता जयमल चंद्रा ने दुकानदारों व निवासियों से बात की। बलवीर सिंह नेगी,संदीप सिंह रावत,दिनोर सिंह नेगी,सरिता देवी आदि ने सरकार से इस रमणीक स्थान को पर्यटन स्थल बनाने की मांग की है।

One thought on “देवीखेत पर नजर-ए-इनायत कीजियेगा | हुजूर | द्वारीखाल से जयमल चंद्रा की रिपोर्ट

  • October 7, 2021 at 8:59 am
    Permalink

    जैमल चंद्आ जी ने देविखेत को टूरिस्ट स्पोर्ट बनाए जाने का सुझाव, दवारीखाल block के अन्तर्गत आने वाले गआओं से पलायन रोकने मे भारी रोक लगा सकता hey।जरुरत हे कि सरकर villages में स्मॉल कॉटेज इंडस्ट्री लगाकर,महिलाओं को जॉब की ब्यवस्था करे।जै हिन्द।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.