advertisement

जानिये ” देबू दा ” का ” सियासी हथियार ” जिनके प्रयोग में ” नंबर-1″ हैं ” देवेंद्र ” | click कर पढ़िये पूरी खबर

Share this news

सिटी लाइव टुडे, चुनावी डेस्क


यूं गाजीवाली की सियासी पिच पर सभी प्रत्याशियों ने पूरी-पूरी ताकत झोंक रखी है। सभी के अपने-अपने पॉजिटिव फेक्टर है। सभी जीत के दावे भी कर रहे हैंे। लेकिन एक मामला ऐसा है जिसमें प्रधानी पद पर दमदार ताल ठोक चुके देवेंद्र सिंह नेगी यानि देबू नंबर-1 कहे जा सकते हैं। चुनाव प्रबंधन व प्रचार तंत्र की रणनीति के मामले में देबू बीस ही साबित हो रहे हैं। सोशल मीडिया से लेकर अन्य प्रचार तंत्र में देबू ने अन्य प्रत्याशियों को उन्नीस साबित कर अपनी ताकत का अहसास करा दिया है। हाालंकि अन्य प्रत्याशी भी प्रचार तंत्र को धार दे रहे हैं।


यहां हम यह भी स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि जरूरी नहीं है कि प्रभावी प्रचार तंत्र मतदाताओं को पूरी तरह से रिझा व लुभा पाता है। चुनाव में कई बार प्रभावी प्रचार तंत्र भी फेल होता रहा है। इसमें इसमें भी कोई दोराय नहीं है कि प्रभावी चुनावी प्रचार तंत्र संजीवनी का काम करता है। यही वजह है कि चुनाव किसी भी स्तर के हों चुनावी प्रचार तंत्र एवं जनसंपर्क कर जनता की नब्ज टटोेलने पर खासा फोकस रहता है। यह बात देवेंद्र सिंह नेगी देबू बखूबी जानते हैं। इस रणनीति पर भी उनका खासा फोकस है।

architect-ad

ad12


देबू दा के अब तक चुनावी प्रचार तंत्र पर गौर करें तो इस मामले मेें उन्होंने फ्रंट फुट पर बेहतरीन शॉट खेले हैं। अनानास चुनाव निशान मिलने के बाद गाजीवाली की सियासी पिच पर देबू एक से बढ़कर शॉट खेल रहे हैं। सोशल मीडिया में देबू दा छाये हुये हैं तो जमीनी स्तर पर देबू सीधे जनता के बीच हैं। उनके जनसंपर्क अभियान का तोड़ अन्य प्रत्याशियों के सियासी तरकश में बहरहाल नहीं दिख रहा है। आने वाले दिनों में देबू सियासी तरकश कई के कई और सियासी शस्त्रों का प्रयोग करें। सियासत की पिच पर देबू का यह सीधा व मंझा हुआ अंदाज उनकी सियासी धार को और भी पैनी करता जा रहा है। हालांकि, फैसला जनता को ही करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.