advertisement

आंदोलन की राह पर चले ये कर्मचारी| दिखाये तल्ख तेवर| CLICK कर पढ़िये पूरी खबर

Share this news

सिटी लाइव टुडे, मीडिया हाउस


चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण जनपद संयोजक मंडल ने कर्मचारियों की विभिन्न मांगों को लेकर तल्ख तेवर अख्तियार किये हैं। बार-बार की आश्वासनों की मीठी गोली से स्वयं को ठगा हुआ महसूस कर अब आंदोलन की हुंकार भरी है। बुधवार को हुयी बैठक में एक स्वर में आंदोलन की राह पर चलने का आह्वान किया। इस मौके पर सरकारी मशीनरी पर उपेक्षा करने का आरोप भी लगाया गया।
दरअसल, बुधवार को एक आपातकालीन बैठक कर्मचारियों की मांगों का निस्तारण न होने को लेकर हुई मुख्य संयोजक एस पी चमोली की अध्यक्षता में मेला चिकित्सालय परिसर में हुई।


बैठक को संबोधित करते हुए मुख्य संयोजक एस पी चमोली, संयोजक महावीर चौहान, संयोजक दिनेश लखेडा ने कहा कि बहुत कम वेतन मिलने के बाद भी एन एच एम एवं टी एन एम कर्मचारियों को लगभग तीन माह से वेतन न मिलना, कोविड महामारी में कर्मचारियों द्वारा अपनी जान की परवाह किए बिना कोविड रोगियों की सेवा की किन्तु आज तक प्रोहत्साहन भत्ता नहीं मिला है जो कि न्यायोचित नही है जिसके लिए जल्द ही बड़ी बैठक बुलाकर आंदोलन किया जायेगा। जिसका सम्पूर्ण उत्तरदायित्व जिले के अधिकारियों का होगा,जल्द ही मुख्य चिकित्सा अधिकारी/मेलाधिकारी स्वास्थ्य2021 एवं मेलाधिकारी कुम्भ मेला 2021 से मिलकर अपनी मांग के निस्तारण का अनुरोध किया जायेगा।

architect-ad

ad12


संयोजक राजेन्द्र तेश्वर, चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष शिवनारायण सिंह जिलामंत्री राकेश भँवर प्रदेश ऑडिटर महेश कुमार ने कहा कि कर्मचारियों द्वारा लगातार मांग की जा रही है कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा मेला क्षेत्र में महाकुंभ मेले में अपनी सेवाएँ दी और साथ ही कोरोंना महामारी में भी अपनी सेवाएं दी किन्तु आज तक भी स्वास्थ्य विभाग ने मेले भत्ते हेतु मेलाधिकारी कुम्भ मेला को कर्मचारियों की लिस्ट नही भेजी है जो कि अन्याय पूर्ण रवैया अपनाया जा रहा है , चतुर्थ श्रेणी कर्मियों की वेतन विसंगति होने के बाद भी कई बार अवगत कराने के बाद भी आज तक विसंगति दूर नही हुई है जो सेवनिर्वत्ति के समय ज्यादा वेतन पाने के कारण कर्मचारियों को वेतन की रिकवरी के समय लाखों का भुगतान करना पड़ता है जो सीधे तौर पर कार्यालय की गलती होती है और भुगतान कर्मचारियों को करना पड़ता है जो कि न्यायोचित नही है।
बैठक के दौरान एस पी चमोली, वीरेंद्र, विजयानंद, दिनेश लखेडा, महावीर चौहान, महेश कुमार, राजेन्द्र तेश्वर, राकेश भँवर,वर्णिक चौधरी, शिवनारायण सिंह ने भाग लिया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.