advertisement

delhi-बेटी-ब्वारी पहाडू-की| ” कल्याणी सम्मान ” से नवाजी जायेंगी पहाड़ की “बेटी-ब्वारी “| जगमोहन डांगी की रिपोर्ट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, दिल्ली-जगमोहन डांगी
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस 08 मार्च 2022 को नई दिल्ली के पंच्कुईयां रोड़ स्थित गढवाल भवन मे कल्याणी सामाजिक संस्था द्वारा तीसरा “कल्याणी सम्मान समारोह” आयोजित किया जा रहा है। यह सम्मान समारोह उत्तराखंड की उन महिलाओं के सम्मान में आयोजित किया जा रहा है जिन्होंने विकट परिस्थितियों से अपने हुनर को संजो कर रखा तथा समाज में एक इतिहास रचा, जो लगातार अपने कार्यों से देश व समाज के लिए प्रेरणा बनी।

ad12

कल्याणी सामाजिक संस्था की अध्यक्षा एवमं संस्थापिका बबीता नेगी ने बताया कि “कल्याणी सम्मान समारोह” मे मुख्य रूप से समाज के विभिन्न क्षेत्रों मे कार्यरत प्रतिभाशाली महिलाओं को उनके उत्कृष्ट कार्यो के लिए सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जब एक नारी बखूबी अपने कार्यों को मंजिल तक पहुँचाती है तो वो गुमनाम क्यों रहे?, क्यों न उसे एक सम्मान का हकदार बनाकर सशक्त किया जाए। यह हम जैसी महिलाओं के लिये गौरवपूर्ण क्षण हैं कि उन सभी मातृशक्ति को सम्मानित करें, जो आज अपने कार्यों द्वारा अलग पहचान बनाये हुए हैं।
इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि के रूप में माधुरी बड़थ्वाल (अवकाश प्राप्त संगीत संयोजिका/निर्देशिका, आकाशवाणी नजीबाबाद), हेमा नेगी करासी (लोक गायिका), अंजू अरविंद कुमार (समाज सेविका) सुधा देवी राही (धर्मपत्नी लोक गायक स्वर्गीय चंद्र सिंह राही) ।
इन्हें मिलेगा कल्याणी सम्मान
नीरजा गोयल (ऋषिकेश उत्तराखंड), नंदी बहुगुणा (ग्राम साबली चंबा, टिहरी गढ़वाल), सुधा भंडारी (ग्राम रायड़ी, केदारघाटी, जिला रुद्रप्रयाग), शांति वर्मा “तन्हा” (ग्राम थात कॉलोनी, लखसियार देहरादून), पूजा ढौंडियाल शर्मा (ग्राम गनरियाखाल, पौड़ी गढ़वाल), लक्ष्मी रावत पटेल (ग्राम दंदल, पौड़ी गढ़वाल), गरिमा सुंदरियाल (पंजारा बड़ा, पौड़ी गढ़वाल), आशा बिष्ट गुसाईं (ग्राम ईड़ा बाराखाम, अल्मोड़ा)। कुम्मू भटनागर (ग्राम झिझार अल्मोड़ा) अभिलाषा पालीवाल (हल्द्वानी, जिला नैनीताल), ग्रामीण बाल विकास संगठन (बाल पंचायत, बजींगा, टिहरी गढ़वाल) के नाम शामिल है।
इस अवसर पर बबीता नेगी ने कहा कि हमारा प्रयास है कि उत्तराखंड की हर कोने से हम ऐसी महिलाओं को सम्मानित करें जो समाज के लिए उत्कृष्ट कार्य कर रही हैं। इस बार जो 11 महिलाएं चयनित हुई हैं वे उत्तराखंड के अलग-अलग क्षेत्रों से हैं। तथा उत्तराखंड की कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं जो दिल्ली में रहकर समाज कल्याण के क्षेत्र में काम कर रही हैं। जैसा कि हमारी संस्था का नाम ही कल्याणी है जो नारी शक्ति को एक शब्द में परिभाषित करता है। हमारा प्रयास है कि समाज कल्याण के लिए कार्य करने वाली हर उस महिला को सम्मान मिले जो इसके यानी शब्द को सार्थक करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.