tanejav1

विकास से कोसों दूर हरिद्वार का ‘ हरिपुर टोंगिया ‘ गांव |मुकेश कुमार सूर्या की रिपोर्ट

adhirajv2

Share this news

सिटी लाइव टुडे, मुकेश कुमार सूर्या

हरिद्वार: धर्मनगरी हरिद्वार के विधानसभा क्षेत्र ज्वालापुर के अंतर्गत आने वाला ब्लॉक भगवानपुर का हरिपुर टोंगिया गांव आजादी के 74 वर्ष बाद भी विकास की एक किरण के लिए तरस रहा है! ग्रामीणों द्वारा बताया गया है कि हरिद्वार रोशनाबाद मार्ग पर पड़ने वाला यह गांव आजादी से पहले ही सन 1932 से यहां बसा हुआ है! परंतु शासन प्रशासन और जनप्रतिनिधियों की अनदेखी के चलते आजादी के इतने बरस बाद भी यह गांव और इस गांव के लोग विकास की मुख्यधारा में शामिल होने के लिए तरस रहे हैं! ग्रामीण गोवर्धन सिंह, रविंद्र कुमार, गोपी, राजपाल, मुकेश काला, राजकुमार, ओम प्रकाश, यशपाल, लक्ष्मीचंद, सोनू, छोटा, विनोद, नीटू, अरविंद, वेदपाल हरिदत्त और टार्जन आदि ने बताया कि हमें ऐसा लगता है हमारे गांव और ग्राम वासियों की सरकार की नजर में कोई अहमियत नहीं है!

advertisment

क्योंकि हमारे गांव में आज तक भी सरकार की किसी योजना से कोई भी कार्य कभी भी नहीं कराया गया! फिर चाहे वह इंदिरा आवास हो, शौचालय निर्माण का कार्य हो, पेयजल विभाग से संबंधित कार्य हो या फिर सीसी रोड निर्माण का कार्य हो! आज भी हम लोग कीचड़ भरे कच्चे रास्तों पर चलने को मजबूर है! ग्रामवासी दुखी होते हुए कहते हैं कि समय-समय पर सरकारे बदलती रहती है परंतु ग्रामीणों के द्वारा किए जा रहे तमाम प्रयासों के बाद भी हमारे गांव की किस्मत नहीं बदलती! ग्रामीणों ने यह भी बताया है कि इस गांव के लोग केवल लोकसभा और विधानसभा चुनाव में ही वोटिंग करते हैं! आज तक भी उन्हें पंचायत चुनाव मैं वोटिंग करने का मौका नहीं मिला!

ads

ग्रामीणों के अनुसार इसका कारण यह है कि यह गांव ना ही किसी ग्राम पंचायत से जुड़ा है और ना ही खुद ग्राम पंचायत के रूप में अस्तित्व मे है! ग्रामीणों का आरोप है कि अपने गांव की समस्या को लेकर उन्होंने कई बार स्थानीय जनप्रतिनिधियों और शासन प्रशासन से भी गुहार लगाई परंतु आज तक भी किसी ने कुछ नहीं किया! और सभी समस्याएं जस की तस बनी हुई है! जिसे लेकर ग्रामीणों में आक्रोश बना हुआ है! अब देखने वाली बात यह होगी कि इस गांव पर शासन प्रशासन की नजरे इनायत कब होती है, और इस गांव के विकास के लिए जनप्रतिनिधि और शासन प्रशासन क्या कुछ कर पाते हैं!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *