advertisement

गाजीवाली| देवेंद्र नेगी ने की सियासी धार पैनी| जानिये क्या हैं पॉजिटिव फेक्टर|click कर पढ़िये पूरी खबर

Share this news

सिटी लाइव टुडे, चुनावी डेस्क


स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का गांव कहे जाने वाले गाजीवाली ग्राम पंचायत के प्रधानी पद के चुनाव में इस बार महासंग्राम होता दिख रहा है। इस बार इस सीट पर सभी वर्गों के प्रत्याशियों ने ताल ठोकी है। कौन किस पर भारी पडे़गा यह तो परिणाम ही तय करेगा। अनानास चुनाव निशान को लेकर मैदान में उतरे देवेंद्र नेगी की पैनी होती सियासी धार कुछ भी कर सकती है। पहाड़ समाज का चेहरा होने के चलते पहाडी़ समाज के वोट पर उनकी पकड़ अच्छी-खासी है। सामाजिक कार्यों में सक्रियता और क्षेत्र मेें लोकप्रियता उनकी सबसे बड़ी ताकत हैं। देखना यह है कि चुनाव मेें वे इन ताकतों का इस्तेमाल कैसे करते हैं।


न्याय पंचायत लालढांग की गाजीवाली ग्राम पंचायत सीट पर सामान्य सीट है। सो, सभी को भाग्य आजमा का मौका भी मिला है। यहां प्रधानी पद पर करीब-करीब सभी वर्गों के प्रत्याशी मैदान में उतरे हैं। इस एक गांव से ही देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले 14 स्वतंत्रता सेनानी हुए हैं। पूर्व में यहां एससी और पाल समाज के लोग ही निवास करते थे लेकिन राज्य गठन के पूर्व से ही यहां पर्वतीय मूल के लोगों का बसना शुरू हो गया था। जिनकी आबादी धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है। राज्य गठन में बाद से इस पंचायत में एक बार भी सामान्य सीट नहीं आई थी। इस बार सामान्य सीट आने से सभी वर्गों के प्रत्याशी चुनाव मैदान में ताल ठोक रहें हैं। इस ग्राम सभा में पहाड़ी समाज के वोटरों की संख्या ठीकठाक ही है।

architect-ad

ad12


इस बार पाल समाज से 3, वन गुर्जर से एक, एससी सीट से एक और पर्वतीय समाज से दो प्रत्याशी चुनाव मैदान में अपनी किस्मत आजमा रहें हैं। गाजीवाली गांव के समीकरण इस बार नई इबारत लिख सकते हैं। जातीय समीकरण ओर प्रत्याशियों की संख्या के लिहाज से इस बार पर्वतीय समाज एकजुट होकर अपने प्रत्याशी को जीत दिला सकता है। हालांकि यह सब मतदाताओं पर निर्भर करता है कि वो किसके सिर पर ताज सजाते हैं। वोटरों का रुख इस बार शिक्षित और युवा को अपना प्रधान बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहें हैं। गाजीवाली में चुनाव चिन्ह आवंटन के बाद प्रत्याशी ओर अधिक मेहनत करने में जुट गए है। यहां से अतुल कुमार को अनाज की बाली, देवेंद्र नेगी को अनानास, नजाकत को आइसक्रीम, प्रमोद पाल को इमली, शांति देवी को कार, हेमेंद्र को किताब ओर श्रवण को कैमरा चुनाव चिन्ह आवंटित हुआ है। देवेंद्र नेगी अनानास चुनाव निशान लेकर सियासी मैदान मंे हैं। नेगी पूरी ताकत व रणनीति के साथ मैदान मारने की तैयारी में हैं। मजबूत प्रचार तंत्र, जनवादी व्यक्तित्व उनकी बड़ी ताकत है। सोशल इंजीनियरिंग में भी माहिर हैं। ऐसे में तमाम पॉजिटिव फेक्टरों का लाभ उठाकर नेगी फतह हासिल करने का मौका नहीं चूकता चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.