advertisment

पौड़ी जनपद| 10 महीने में 12 गर्भवती महिलाओं की मौत| 108 संचालक पर PENALTY| जगमोहन डांगी की रपट

Share this news

सिटी लाइव टुडे, जगमोहन डांगी, पौड़ी


आंकड़े गवाही दे रहे हैं कि जनपद पौड़ी में पिछले करीब 10 महीेने में 12 गर्भवती महिलाओं की मौत हुयी है। खास बात यह है कि ये सरकारी आंकड़े ही बोल रहे हैं। अप्रैल-2021 में देर से पहुंचने पर जिलाधिकारी पौड़ी ने 108 संचालक पर पैनल्टी लगाते हुये स्पष्टीकरण भी मांगा है।


दरअसल, जिलाधिकारी गढ़वाल डॉ0 विजय कुमार जोगदण्डे की अध्यक्षता में आज कलेक्ट्रेट सभागार में मातृ मृत्यु दर की समीक्षा बैठक हुई। उन्होंने संबंधित अधिकारी से जनपद में इस वर्ष गर्भवती महिलाओं की हुई मृत्यु की जानकारी ली। जिलाधिकारी ने अप्रैल 2021 के मामले पर, जिसमें नौगांव खाल अस्पताल से गर्भवती महिला को रेफर करने के लिए 108 बुलाने पर 108 संचालक के डेढ़ घंटे देरी से पहुंचने पर जिला समन्वयक 108 पर पेनल्टी लगाते हुए स्पष्टीकरण करने के सीएमओ को निर्देश दिये। कहा कि गर्भवती महिलाओं को नियमित रूप से जांच करें तथा उन्हें आवश्यक जानकारी भी दे। कहा कि गर्भवती महिलाओं को उनके तिथि से पूर्व अस्पताल में भर्ती करें। गर्भवती महिलाओं के परिजनों को भी जानकारी दे। जिससे वह समय पर अस्पताल ला सकेंगे।

advertisment4


जिलाधिकारी डॉ0 जोगदण्डे ने आज कलेक्ट्रेट सभागार में मातृ मृत्यु दर की समीक्षा बैठक कहा कि गर्भवती महिलाओं का हीमोग्लोबिन कम होने पर उन्हें उसकी जानकारी तथा दवाई दे। ऐसे मामलों में लापरवाही न वरते। उन्होंने एमओआईसी को निर्देशित किया कि गर्भवती महिलाओं को सूचना दे तथा नियमित रूप से उनकी जांच करे। जिससे जच्चा-बच्चा स्वस्थ रह सकेंगे। कहा कि एएनएम, आंगनवाड़ी, आशा के माध्यम से गर्भवती महिलाओं को सावधानी बरतने की जानकारी दे। उन्होंने सीएमओ को निर्देशित किया कि पाबौ, वीरोंखाल व सतपुली जैसे दूरस्थ क्षेत्रों में निशुल्क वाहन भेजकर महिलाओं का अल्ट्रासाउण्ड करवायें।

ad12

बैठक में अवगत कराया गया कि इस अप्रैल 2021 से जनवरी 2022 तक 12 गर्भवती महिलाओं की मृत्यु हुई है जिसमें अधिकतर हाई रिस्क एनीमिया (रक्त की कमी) व 02 गर्भवती महिलाओं की मृत्यु कोरोना महामारी के कारण हुयी है। इस अवसर पर सीएमओ डॉ0 प्रवीण कुमार, एसीएमओ डॉ0 रमेश कुंवर, संजीव सहित अन्य उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.